What is HUB, MODEM, SWITCH and ROUTER in Hindi?

Hub क्या है ?

Hub कई सारे computer को एक दूसरे के साथ network बनाने के लिए connect करती है| Data को सभी connected ports में forward करने से पहले यह कमजोर से कमजोर network को regenerate करती है|

इससे repeater with multiple port भी कहा जाता है |जब भीं हम multiple computer को connect करते है तो हमे hub की ज़रूरत पडती है | और जब भी hub से data भेजा जाता है तो सिर्फ एक computer data send करता है और बाकी computer receive करते है

इसलिए इसे half duplex device भी कहते है|  दो या दो ये ज्यादा hub को जोड़ने के लिए UTP cable ,STP cable औरcoaxial  cable  कोconnect किया जाता है | आज जो hub available है वो है 8port 16port और 24port में है | आजकल हम hub की जगह switches इस्तेमाल करते है |

There are Three types of Hub

1. Active Hub

ये hub signal को amplify करने के साथ साथ regenerate भी करता है और इस हब के लिए electricity की ज़रूरत पढती है |

2. Passive Hub

ये Hub पहले वाले ports से आने वाले signal को distribute करता है | Passive hub न ही signal को बढ़ता है न ही फिर से generate  करता है इसीलिए इसमें ;electricity की ज़रूरत नही होती है |

3. Intelligence Hub

ये hub हमे network traffic को monitor करने में हमारी मदत करता है और आप हर एक port कोअलग अलग configure कर सकते हो |

Working of Hubs

पहले एक device hub को data भेजता है उसके बाद हब उस डाटा को regenerate करके बाकी के device को capture forward हो जाता है |

 Modem क्या है ?

Modem दो शब्दों के मेल Modulater और Demodulater से बना हुआ हो | यह दो या दो से ज्यादा computer को जोड़ता है  और information एक computer से दूसरे computer में भेजने में इसका इस्तेमाल किया जाता है ( connection cable, telephone lie etc.)|

माल लो जब भी हमे information कोभेजना होता है तब हम Analog signal भेजते है और ये signal Analog से digital form में पहले convert होता है

क्यूकि computer या phone Digital form में ही information को समझ पता सकता है , उसके बाद digital signal analogमें बदल कर दूसरे computer तक जाता है और फिर से analog digital signal मेंconvert होकर Analog signal मेंबदलजाता है|

अब जो modulater हैवो Analog को digital में बदलता है और जो demodulater है वो Digital signal को Analog में बदलता है |

Modem के प्रकार

1. External Modem

इस में दो ports होते है com1 और com2 और ये वो ports होते है जिसके through हम external modem को connect कर सकते है| इसे on करने के लिए बाहर से power लेना पड़ता है तब जाकर modem चलता है| इसको हम आसानी से Set कर सकते है |

2. Internal  Modem

यह modem एक circuit board है जिसको हम expansion sort से computer के अंधर attach  कर सकतेहै| इसको एक PC से दूसरे PC में आसानी से move नही किया जा सकता |

इसकों set up करना भी मुश्किल होता है क्यूकि इसमें हमे casing open करनी पडती है mother board को evaluate करना पड़ता है |

3. Wireless Modem

जैसे की नाम से ही ओता चलता है की इसमें कोई wire use नही होता है और इसमें connectivity waves के through होती है | इसकों हम radio frequency modem भी कहते है

क्यूकि इसमें रेडियो वेव्स इस्तेमाल होती है ये किसी भी medium या obstacle को आसानी से pass कर लेती है और हमारी connectivity insure होती है और data आसानी से  transfer होता है | परन्तु इसमें network slow होता है| उदाहरण: 3G evoWingleहै|

Switch क्या है ?

Switch एक computer का device है जो दूसरे device को साथ में connect करता है | बहुत से data cable को switch  में डालने जोड़ने से हम दो अलग अलग network device के बीच communication कर सकते है |

इसे on off करके handle किया जा सकता हैं | switch full duplex mode पे काम करता है

Switch के उपयोग क्या क्या है?

Switch आमतौर पर circuit को बाहर से control करने के लिए उपयोग में आती है |

Switch जब डाटा भेजता है तो frame  में specific MAC address के trough वो destination computer तक data पहुँचाता है |

Switch के प्रकार

SPST: (Single  pole single throw)

यह एक on\off switch है जो दो छोर को जोड़ता और अलग करता है| इस प्रकार के switch को toggle switch भी कहते है | इसमें single input और single out put होता है और ये बहुत साधारण से होते है |

SPDT: (Single pole double throw)

यह एक ऐसा switch है जिसमे एक input  होता है जो की 2 output कपे बाच में connect होता है |इसमें1 input terminal और 2 output terminal होता है |

DPST: (Double pole single throw)

यह एक ऐसा switch दो circuit को  on off करता है|इस में दो input terminals और चार output  terminals  होते है|या तो switch का एक terminal on होगा या तो off |

DPDT: (double pole double throw)

यह एक ऐसा switch है जिसमे 2 inputs और 4 outputs होते है | हर एक input में दो outputs होते है | इसके प्रत्येक switch के छोर 1 या 2 position में होते है इसीलिए यह एक versatile switch है|

Router क्या है ?

यह एक inter-networking device है जो data packets कोcomputer networks के बीच भेजता है और wired area network device  है| यह दो अलग अलग network को जोड़ता है|

Router internet मेंtraffic को देखने का काम भी करता है |यह एक intelligent device है क्यूकि यह खुदही अपना path ढूँढ सकता है | यह three layer device है|

Router के काम

यह सारी जानकारी कोstore करके रखता है और उसी के हिसाब से वो decision लेता है |

यह traffic को सीधा delete करता है |

Router, DHCP client औरDHCP server की तरह भी काम कर सकता है |

Aakanksha Bodh

My Name is Aakanksha Bodh. I am a student and i love to write. My hobbies is writing, reading nobles and try new things.

Related Posts

error: Content is protected !!